keto diet in hindi

केटोजेनिक आहार

केटोजेनिक आहार (Ketogenic Diet)

आज हम बात करने वाले है केटोजेनिक आहार (Ketogenic Diet) के बारे में और इस आहार दिनचर्या को शुरू करने से पहले जान लेते है कुछ बातें जो कि बहुत ही जरूरी है।

केटोजेनिक आहार (Ketone Diet) एक उच्च वसा(Fat), कम कार्ब(Carbs) और पर्याप्त प्रोटीन(Protein)आहार है। अगर बात की जाये इस आहार को अच्छे से पालन करने से होने वाले फायदों के बारे में तो आप भी हैरान हो जायेंगे जी हाँ सही सुना आपने कई लोगो ने अपने अनुभवों में बताया की कैसे केटोजेनिक आहार(Ketone Diet)का पालन करने से उनके वजन और वसा में उन्होंने बदलाव पाया एवं विभिन्न प्रकार के रोगो से छुटकारा भी पाया।

पिछले कुछ वर्षो में भले ही इस आहार ने बहुत जल्दी अपनी जगह लोगो के स्वस्थ्य दिनचर्या में बनाई हो परन्तु आज भी कई तरह की गलतफहमी इस आहार को लेकर लोगो में है।  तो आइये बात करते है उन जरूरी बातो के बारे में जो आपको केटोजेनिक आहार शुरू करने से पहले ध्यान में रखना बहुत ही आवश्यक है।

क्या है केटोजेनिक आहार (Ketone Diet):

केटोजेनिक आहार, जिसे कीटो के रूप में भी जाना जाता है , जहां आप उच्च मात्रा में वसा और कार्ब के साथ इस आहार दिनचर्या में प्रवेश करते है जो आपके शरीर के इंजन में ईंधन की तरह काम करता है एवं आपको शारीरिक लाभ प्रदान करता है। वसा केटो आहार का आधार है एक व्यक्ति को प्रतिदिन 2000 कैलोरी का उपभोग करने की आवयश्कता होती है जिसमे से 144 ग्राम वसा की आवयश्कता होती है। उसी तरह केटो में प्रोटीन की आवयशकता भी होती है तो इस तरह हम केटो आहार में हर तरह से संतुलित आहार दिनचर्या का पालन करके शरीर को स्वस्थ्य बनाये रखते है।

 

केटोत्पादक आहार के चार रूप है जो की विभिन्न जीवनशैली एवं शारीरिक लक्ष्णों पर निर्भर करती है।

1.मानककेटोजेनिकआहार (Standard Ketogenic Diet)केटो के लिए सबसे आम दृष्टिकोन है जहाँ आप को आहार का 75% वसा से, 20% प्रोटीन से और 5% कार्ब से मिलता है।

2.लक्षित केटो आहार (Targeted Ketogenic Diet) ये एथलिट द्वारा प्रदर्शन करने के लिए किए जाने वाले आहार में से है। यहाँ आप प्रतिदिन 20 से 50 ग्राम शुद्ध कार्ब्स लेते है। और इसका उपयोग व्यायाम से पहले होता है।

3.साइक्लिकल केटो आहार (Cyclical Ketogenic Diet) – यह आहार अक्सर सफर पर रहने वाले व्यक्तियों के लिए लाभदायक है. क्योंकि इसमें एक व्यक्ति को केटोजेनिक आहार पर 5 दिनों के लिए रखा जाता है और 2 दिनों के लिए वह कम कार्ब्स(केटोजेनिक आहार से अधिक) ले सकता है।

4.उच्च प्रोटीन केटो आहार(High-Protein Ketogenic Diet)इस आहार में आप 60% वसा से, 35% प्रोटीन से, एवं 5% कार्ब्स से लेते है।

आइये अब हम बात करते है कुछ ख़ास बातें जो हमे जरूर ध्यान में रखनी चाहिए।

1. जानें क्या खाना है और क्या नहीं (what to eat and what to ignore) : इस आहार को शुरू करने से पहले आपको ये जान लेना की क्या खाना है और क्या नहीं खाना है अतिआवश्यक है।  यह भी सुनिश्चित करे की किस तरह के खाद्य पदार्थो में कितना वसा कितना कार्ब्स एवं कितना प्रोटीन है।  इस आहार प्रणाली का आधार ही किस पोषक तत्व को कितनी मात्रा में लेना हे पर आधारित हैं इसलिए इस बात को ध्यान में रखें।

 

2. सिर्फ वजन कम नहीं होता (You doesn’t lose only  weight) : हाँ, केटो वजन कम करने में मदद करता है पर इसके कई और दूसरे अच्छे परिणाम भी हैं।  ये केटोजेनिक आहार आपको एक नयी स्वस्थ्य एवं नयी मानसिक शक्ति प्रदान करता है।

 3. वसा के साथ जाचे संबंध(Examine your relation with Fat): लोग वसा अर्थात फैट का नाम सुनते ही डरने लगते है परन्तु उन्हें वसा के बारे में संपूर्ण जानकारी नहीं होती।  धीरे-धीरे कार्ब्स को आहार से निकालना शुरू करें एवं वसा को आहार में शामिल करें।

4. परिवार वालो को सूचित करे(Talk to your family) : इस आहार प्रणाली में बहुत जरूरी है की आप इस आहार को शुरू करने से पहले अपने घर में इस आहार के बारे में बातें करे उन्हें बताये या फिर उन्हें अपने आहार विषेशज्ञ से मिलवाये ताकि ये सुनिश्चित हो सके की जो आप भी कर रहे है वो किसी की देख रेख में है।

5. दुष्प्रभावों के बारे में भी जाने(Know What Side effects to expect): केटो  से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में भी जान लें क्यूंकि ऐसा माना जाता है कि इस आहार प्रणाली में केटो-फ्लू जैसी दुविधा  हो जाती है जो की मानसिक रूप से थोड़ा प्रभावित कर सकते है। ये केटो-फ्लू आहार शुरू करने के साथ ही शुरू हो जाता है जब आपका शरीर आपके ही वसा का उपयोग आपके शरीर में ही ताक़त के लिए उपयोग करने लगता है।

6. इलेक्ट्रोलाइट को बढ़ाए ताकि केटो से होने वाले दुष्प्रभाव काम हो सके(Up your electrolytes to mitigate side effects): व्यक्ति की किडनी अधिक मात्रा में पानी का त्याग करती है , इसलिए इस बात का ध्यान अवश्य दे की आपके शरीर को सोडियम एवं पोटैशियम प्राप्त होता रहे ताकि इस आहार में बाकि पोषक तत्वों में संतुलन रख सके।

7. केटो के बाद की तैयारी( Have an After plans): इस बात का ध्यान भी अवश्य रखे की केटोजेनिक आहार एक अल्पकालिक आहार प्रणाली है जो की 3 माह से 6 तक की अवधि तक चलता है इसलिए पहले से ही आहार समाप्त होने के पश्चात की आहार दिनचर्या का भी पालन करने क लिए नियम पहले से ही तैयार करले ताकि आपको इसके दुष्परिणाम न झेलने पड़े। ऐसा माना गया है कि केटो आहार प्रणाली अल्पकालिक होती है इसके प्रभावी रूप से परिणाम देखने के लिए आपको इसके पश्चात पालन करने के लिए आपको नियोजित आहार प्रणाली का भी पालन करना बहुत जरूरी है।

8. खाना बनाना सीखें( Learn to make meal): केटो आहार का पालन करने वाले लोगो को ये बात जान लेना अतिआवश्यक है कि आप खाना बनाना सीखले क्यूंकि ये आहार साधारण आहार प्रणाली से थोड़ा अलग है।  इसमें आपको अपने दिनचर्या के हिसाब से अपने लिए आहार बनाना पड़ सकता है जो की शायद आपके घर में आपको समय समय पर कोई न बना कर दे पाए।

 9. धैर्य रखें (Have Patience): इस केटोजेनिक आहार प्रणाली में आपको धैर्य बनाकर रखना चाहिए क्यूंकि आपके शरीर में आपको कई तरह के बदलाव दखने को मिल सकते हैं जो कि अल्पकालिक होते है पर घबराये नई इस तरह की संतुलित आहार नियम का पालन करना आपको थोड़ा प्रभावित कर सकता है तो धैर्य बनाये रखना अतिआवश्यक है।

 

तो दोस्तों एवं प्रिय पाठको ये ब्लॉग आपको केटोजेनिक आहार के बारे में बताने के लिए था उम्मीद करते है आपको पढ़कर उचित जानकारी मिली होंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *